गांड चुदी है तो देर तक मरेगी


desi porn kahani, antarvasna

मेरा नाम राज है मैं कक्षा बारहवीं का छात्र हूं। मैं बहुत ही माहिर हूं किसी को भी चोदने मैं। मैं किसी की भी गांड के घोड़े कभी भी खो सकता हूं। इसलिए स्कूल में मुझे गंडिया राज बुलाते हैं। मैं स्कूल में बहुत ही फेमस हू। मैंने तेल लगा कर बहुत सी भाभियों को बजाया है। इसलिए मैं अपनी कॉलोनी में भी फेमस हूं भाभियों के बीच में मेरी बहुत डिमांड रहती है। नई-नई भाभियों के बीच में क्योंकि मेरा लौड़ा बहुत फेमस है। 12 इंच का शब्द और कड़क है मोटाई भी करीबन 3 से 4 इंच होगी। हमारे स्कूल में टीचर है जिसका नाम नीलम है। जो जुबान से बहुत ही कड़वी है। एक बार क्लास में हमारे एक नई लड़की आई। क्लास की लड़की को वाकिफ कराने के लिए और लड़की को थोड़ा बेहतर महसूस कराने के लिए मैडम ने एक खेल खेला। उन्होंने कहा क्लास के सारे बच्चे इस लड़की के बारे में क्या सोचते हैं। जो बताएंगे और बाद में वह लड़की क्लास के सभी बच्चों के बारे में क्या सोचती है वह बताइएगी।

हमारी क्लास में महेश नाम का एक हरामि लौंडा था। जो हमेशा मुझसे शर्त लगाया करता था। और काली भैंस की औलाद हमेशा हार जाता था। उसको मैडम ने पूछा बताओ उस लड़की के बारे में साला चुतिया झूठी तारीफ करने लगा। मेरी तो झांटे ब्राउन हो रही थी। फिर मैडम ने मुझे उठाया और पूछा बताओ राज कैसी है लड़की मैंने ऐसा सच बोल दिया। मैडम यह तो हुस्न की परी है। इसका तो पिछवाड़ा भी बहुत बड़ा है। और मैडम को भी मेरी बात पसंद नहीं आई। उसका मुंह चूत जैसा हो गया। नीलम मैडम ने मुझे कागज का टुकड़ा पकड़ा दिया। और कहा इसमें सॉरी लिखो। मैंने गांड फटी में उस पर सॉरी लिखने की वजह आई लव यू लिख दिया। और उस लड़की को पकड़ा दिया। जब उस रंडी नीलम मैं उस लड़की से पूछा। क्या लिखा है इसमें उसने कहा मैडम सॉरी लिखा है इसमें मतलब यह था वह लड़की मुझ पर फिदा हो गई थी। क्योंकि मैंने उसकी बड़ी-बड़ी गांड की तारीफ कर दी थी। उसके बाद मैंने उस लौंडिया के साथ बहुत चुदाई मचाई। मजा तो बहुत दीया मुझे। अगले दिन नीलम मैडम ने मुझे बोला तुम्हारी सजा अब माफ है। मैं बहुत खुश था मैंने मैडम के मुंह पर देखा तो वह मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी। मुझे लगने लगा आज कहां से चांद आ गया है। आज नीलम मैडम माल बनकर आई हुई थी। देखते ही देखते मुझे उसकी रेड कलर की पैंटी दिखाई देने लगी। वाइट कलर के सूट के अंदर से साफ दिखाई दे रहा था। उसके बाद मैडम मेरे बगल में आई और महाराज क्या क्या चल रहा है। मैडम बस आपकी दुआएं हैं। फिर ज्यादा बात नहीं की और मुझे कागज थमा दिया। जिसमें किसी का नंबर लिखा हुआ था। जब मैं घर पहुंचा तो मैंने उस नंबर पर कॉल किया। तो वह नंबर नीलम मैडम का मैं तो भौचक्का सा रह गया। मैडम ने हेलो बोला और बोलने लगी बोलो राज मुझे लगा मैडम को कैसे पता चला। मेरा नंबर।

loading...

मैंने मैडम से पूछा आपको कैसे पता चला मेरा नंबर उन्होंने बोला बस पता चल गया। फिर ऐसी कई दिनों तक बातें चलती रही। मैडम ने मेरे मोबाइल पर एक ब्लू फिल्म की वीडियो भेजी। मैं तो चक्कर खा गया। मैंने गाली दी। बहन चोद कैसे हो गया यह सब मुझे कुछ पता नहीं चल रहा था क्या हो रहा है। फिर मैडम अगले दिन दोबारा स्कूल में माल बनकर आई। आज तो उसके मोमे ब्लाउज से बाहर झांक रहे थे। ऐसा लग रहा था मानो दूध 5 10 लीटर भरा हुआ हो। साला अब तो उसको देख कर रहा भी नहीं जा रहा था। मैंने अपनी नजरें उसके स्तंभों पर गड़ा कर रख रखी थी। इतने में मेरा लौड़ा भी फनकार मारने लगा। और जोर से खड़ा हो गया। बहन चोद नीलम रंडी ने भी मुझे खड़ा कर दिया और कुछ सवाल पूछने लगी। जैसे ही मैं खड़ा हुआ मेरा लंड भी मेरी पेंट से बाहर झांक रहा था। नीलम ने भी उसको देख लिया था। क्योंकि मेरा हथियार छोटा तोथा नहीं जो छुप जाता। लेकिन नीलम समझ चुकी थी और उसने मुझे बैठा दिया। उसको पता लग गया था कि मेरे नाम से खड़ा है इसका। मेरा तो पूरा मूड खराब हो रखा था। मेरा तो मुठ मारने का मन कर रहा था। इतने में हमारे क्लास की 6 क्लास मैंने बंक मार ली। और मैं बाथरुम में मुठ मारने के लिए चला गया। हमारे बगल में ही लेडीज टॉयलेट भी था। मैं जेंट्स टॉयलेट में अंदर घुसा और पेशाब करने लगा। मैं पेशाब कर रहा था कि आधे में बगल से कुछ आवाज आ रही थी। जैसे कोई चोद रहा हो। मैं टॉयलेट के ऊपर चढ़ा वहां पर छोटा सा छेद था। जो हरामी लड़को ने किया था । मैं जब वहां से झांक कर देखा तो वहां पर नीलम मैडम अपनी चूत में नकली लंड ले रखा था।

वह बहुत मजे ले रही थी। साला मैं सोचने लगा मेरे पास तो असली है मैं इसकी गांड में देता हूं। तब तोउसको भी एहसास हो गया था कि कोई इसको झांक कर देख रहा है। वहां से चिल्लाने लगी कौन है। दीवार के उस पार मैं चुप हो गया। मैंने कुछ बोला नहीं जैसे ही नीचे उतरा जहां दीवार पर मैं खड़ा था। पीछे से देखा तो नीलम मैडम खड़ी थी। उसने मुझे देख लिया और कुछ मैं बोल भी नहीं पाया। मुझसे पूछने लगी क्या लिखा तुमने मैंने कहा कुछ नहीं देखा मैं तो टॉयलेट कर रहा था। तुम्हारे क्लास नहीं है क्या अभी मैं कुछ बोल नहीं पाया डर गया। इतने में उसने जो अपनी चूत में नकली लंड डाला हुआ था वह गिर गया। और उसकी गांड भी फट गई थी। फट तो हम दोनों की गई थी। मैंने उसको पूछ लिया यह क्या चीज है। उसने बताया यह डिलडो है। इसे अपने प्यास को बुझाया जाता है। मैं कहा मैडम हमारे पास तो असली है इससे भी बुझा सकते हो। उसके बाद तो जैसे मानो मैंने उसकी दिल की बात कर दी हो। उसने कहा क्या कर सकते हो तुम मैंने भी कहा जो आपको हो मैडम सब कर सकता हूं। फिर मैंने डिलडो उठाया। वह पूरी तरीके से गीला हो रहा था। उसमें क्रीम लगी हुई थी। शायद नीलम रंडी की रही हो।

उसके बाद नीलम मुझे खींचकर बाथरूम के अंदर ले गई। बोलने लगी बहुत गर्मी है ना तेरे अंदर तो आजा मेरे गर्मी बुझा। मेरे अंदर भी गुस्सा भरा हुआ था क्योंकि शुरू शुरू में उसने मुझे बहुत बेइज्जत किया था। मैंने भी ठान ली थी कि आज तो इसकी बजाऊंगा अच्छे से। मैंने भी अपना लंड पैंट से बाहर निकाला। नीलम रंडी देखते ही डर गई बोलने लगी बहन चोद दिखने में तो तू 5 फुट का है। इतना बड़ा लेकर घूमता है। मैंने कहा देखते रहो अभी तो क्या-क्या होता है। नीलम कि मैंने निप्पल निकालें और चूसने लगा। उनमें से थोड़ा-थोड़ा दूध भी नहीं कर रहा था। मजा आ रहा था पीने में मैंने तो दोनों ही निप्पल से अच्छे से दूध निकाल लिया उसका। बोलने लगी क्या तेरी मां ने तुझे दूध नहीं पिलाया। मैंने कहा पिलाया है तभी तो नीचे दिखता है मेरे लोड़े पर बोली अच्छा मेरे लंड पर थूक लगाया। फिर वह टॉयलेट सीट के ऊपर लेट गई। और मैंने उसकी चूत में इतना लंबा कठोर  सख्त हथियार का प्रवेश करवाया। बोलने लगी तेरा तो घोड़े के जैसा है। पर अच्छा है मैंने भी बोला यह घोड़े का कई भाभियों के और लड़कियों के योनि में प्रवेश करवा रखा है मैंने।

साली छिनाल खुश हो गई। पहले तो बहुत भाव खाती थी। अब जब मेरे नीचे है तो बिल्ली बनी फिर रही है। इसको ही बोलते हैं लोड़े की पावर जब एक बार किसी की योनि में प्रवेश कर जाता है। तो सब अपना हो जाता है चाहे कितना बढ़ा अधिकारी क्यों ना हो। यह भी तो हमारी मैडम ही थी। बातें आगे बढ़ती गई और मजा भी बढ़ता गया। मैंने कहा चलो अच्छी बात है कम से कम नीलम रंडी तो मेरे नीचे आई। मुंह की तो बहुत कड़वी थी आप कितने प्यार से बोल रही थी थोड़ा और तेज करो। फिर जब उसका मन भर गया तो बोलने लगी अब मेरी गांड में अपना सूअर डालो। मेरी खुशी भी सातवें आसमान पर चढ़ गई थी। उसने दोबारा से अपने मुंह में लेकर मेरे लोड़े को नहला दिया। और बोलने लगी सैंडविच जैसा है। इतने में वह घोड़ी बन गई और बोली आ जा धक्का मार। मैंने पहली बार धक्का मारा तो गया नहीं क्योंकि इसकी गांड किसी ने इससे पहले मारी नहीं थी। उसने बोला कोशिश कर दोबारा जाएगा। इस बार कोशिश करने पर धीरे धीरे चला ही गया। थोड़ा सा बचा था तो उसने पीछे की तरफ धक्का मारकर उसको भी पूरा अंदर ले लिया। अब तो क्या था मैंने जो उसके धक्के मारे तब से लेकर अब तक हमेशा मैं ही उसके के धक्के मारता रहता हूं।


error:

Online porn video at mobile phone